Culture and heritage

इस्कॉन के ये मंदिर अगर नहीं घूमे तो आपका आध्यात्मिक सफ़र रह गया अधूरा | Top and must visit Iskcon temples



क्या है इस्कॉन ?

इस्कॉन या ISKCON का मतलब है International Society for Krishna Consciousness. इस दल का गठन आज से कुछ 50 वर्ष पूर्व 1966 में न्यू यॉर्क शहर में स्वामी प्रभुपद ने किया था | इस संस्था का ये लक्ष्य था की भगवान श्री कृष्ण द्वारा दी गयी श्रीमद्भागवत गीता की सीखों को सारी दुनिया से अवगत कराना | बीते 50 वर्षों में ही इस्कॉन ने दुनिया भर में 500 से ज्यादा मुख्य केंद्र, मंदिर और ग्रामीण सम्प्रदाय में अपनी पैठ बनायीं है | इस्कॉन संस्था ने 'हरे कृष्णा, हरे कृष्णा, कृष्णा कृष्णा, हरे हरे' मंत्र को सारे जग से साझा कर के एक प्रार्थना बना दिया | इस्कॉन के बनाये मंदिर सारे दुनिया में विख्यात है | आइये हम आपको इस्कॉन के बड़े और प्रसिद्द मंदिरों के दर्शन कराते हैं |





1. वृन्दावन इस्कॉन मंदिर :

वृदावन इस्कॉन मंदिर मथुरा, उत्तर प्रदेश में स्थित है | इसे कृष्णा बलराम मंदिर के नाम से भी जाना जाता है | उत्तर भारत में आने वाले सभी श्रद्धालु जन इस मंदिर की तरफ खींचे चले आते है | इस मंदिर की अनुपम छटा देखते ही बनती है |

वृन्दावन इस्कॉन मंदिर की झांकी  


मंगला आरती : 04:30
दर्शन समय : 7:15 से 11:00
राज भोग आरती : 12:00 से 12:30
संध्या आरती : 16:30 से 20:30

2. श्री राधे कृष्णा इस्कॉन मंदिर बंगलौर :

द्रविड़ियन और समकालीन भारत की शिल्प कला को दर्शाता ये मंदिर अपने आप में अत्यंत अलौकिक और भव्य लगता है | 1997 में स्थापित ये मंदिर अपने विभिन्न सौंदर्य कणों की वजह से हमेशा चर्चा में रहा है | यहाँ एक सोने की चद्धर चढ़ा हुआ स्तम्भ है जिसे हम ध्वज स्तंभ के नाम से जानते है | इसके अलावा यहाँ मंताप नाम से एक स्थान है जहाँ भक्तजन धुनी रामा के हरे रामा, हरे कृष्णा का भजन करते है |

राधे कृष्ण की मंदिर में स्थापित मूर्ति 
मंगला आरती : 04:15 से 05:30 तक 
दर्शन समय : 7:15 से 11:00 तक 
राज भोग आरती : 12:00 से 12:30 तक 
संध्या आरती : 16:30 से 20:20 तक 

3. हरे कृष्ण मंदिर दिल्ली:

भारत की नयी सभ्यता को दर्शाता ये मंदिर नई दिल्ली के पूर्वी कैलाश इलाके में स्थित है | इस मंदिर की स्थापना सन 1998 में हुई थी | भारत में बने इस्कॉन के सारे मंदिरों में से ये मंदिर सबसे सुन्दर और भव्य माना जाता है | रुसी कलाकारों द्वारा निर्मित इस मंदिर में अलग अलग देवी देवताओं की मूर्तियाँ स्थापित हैं जिनमे से राधा-कृष्ण, राम,लक्षम्ण, सीता, हनुमान भगवन चैतन्य प्रमुख है |
अगर आप इस मंदिर के दर्शन करना चाहते है तो जन्माष्टमी, रामनवमी, गौरी पूर्णिमा, राधा अष्टमी, गोवर्धन पूजा और जगन्नाथ यात्रा प्रमुख तिथियाँ है | इन सभी दिनों पर यहाँ की भव्यता अलौकिक होती है |

दिल्ली इस्कॉन मंदिर का एक दृश्य
दर्शन समय : 7:15 से 11:00
संध्या आरती : 16:30 से 20:30



About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.