Aartis

आज सांयकाल में ज़रूर वंदन करें देवी लक्ष्मी की इस आरती का | Don't forget to chant Lakshmi aarti this Friday




जिस तरह भोजन का पूरा होना तब तक नहीं समझा जाता जब तक अंत में मिठाई ना मिले ठीक उसी तरह किसी भी पूजा को सफल तब तक नहीं मन जाता जब तक अंत में आरती न पढ़ी जाय। इसीलिए अगर आपने ध्यान दिया हो तो पायेंगे की हर कथा, पूजा, हवन के बाद अंत में आरती का पाठ किया जाता है। तो आज हम आपके लिये लाये हैं माँ लक्ष्मी जी की आरती जिसका प्रत्येक शुक्रवार सांयकाल में पाठ करना घर की सुख शांति और धन-धान्य के लिये अत्यंत ही लाभकारी है।  तो आइये पढ़तेहैं हम वो आरती। 


लक्ष्मी जी की आरती :


ॐ जय लक्ष्मी माता मैया जय लक्ष्मी माता |
तुमको निसदिन सेवत, हर विष्णु विधाता ॥

ॐ जय लक्ष्मी माता....
उमा ,रमा,ब्रम्हाणी, तुम जग की माता |
सूर्य चद्रंमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॥

ॐ जय लक्ष्मी माता....
दुर्गारुप निरंजन, सुख संपत्ति दाता |
जो कोई तुमको ध्याता, ऋद्धि सिद्धी धन पाता ॥

ॐ जय लक्ष्मी माता....
तुम ही पाताल निवासनी, तुम ही शुभदाता |
कर्मप्रभाव प्रकाशनी, भवनिधि की त्राता ॥

ॐ जय लक्ष्मी माता....
जिस घर तुम रहती हो, ताँहि में हैं सद् गुण आता|
सब सभंव हो जाता, मन नहीं घबराता॥

ॐ जय लक्ष्मी माता....
तुम बिन यज्ञ ना होता, वस्त्र न कोई पाता |
खान पान का वैभव, सब तुमसे आता ॥

ॐ जय लक्ष्मी माता....
शुभ गुण मंदिर सुंदर क्षीरनिधि जाता|
रत्न चतुर्दश तुम बिन ,कोई नहीं पाता ॥

ॐ जय लक्ष्मी माता....
महालक्ष्मी जी की आरती ,जो कोई नर गाता |
उँर आंनद समाा,पाप उतर जाता ॥

ॐ जय लक्ष्मी माता....
स्थिर चर जगत बचावै ,कर्म प्रेर ल्याता |
रामप्रताप मैया जी की शुभ दृष्टि पाता ॥

ॐ जय लक्ष्मी माता....
ॐ जय लक्ष्मी माता मैया जय लक्ष्मी माता |
तुमको निसदिन सेवत, हर विष्णु विधाता ॥
ॐ जय लक्ष्मी माता...




About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.