Stories

क्यों लेना पड़ा था भगवान विष्णु को वामन अवतार क्या पता है आपको ? | Why Lord Vishnu took Vaman Awtaar ?



कौन था वो राजा जिसका अहंकार चूमता था आकाश ?

दैत्यों के राजा बलि ने अपने जीवन में दान देने का वचन लिया था। कोई याचक उससे जो वस्तु माँगता राजा उसे वह वस्तु देता था। उसके राज्य में जीव-हिंसा, मद्यपान,  वेश्यागमन, चोरी और विश्वासघात उन पाँच महापातकों का अभाव था।

चहुँओर दया, दान अहिंसा, सत्य और ब्रह्मचर्य का बोलबाला था। आलस्य, मलिनता, रोग और निर्धनता उसके राज्य से कोसों दूर थीं। लोग पारस्परिक स्नेह के साथ रहते थे। अपने राज्य को इतन असबल और समृद्ध बनाने की वजह से राजा बलि को बहुत ही अहंकार आ गया | तब भगवान विष्णु ने बलि का अहंकार तोड़ने के लिए एक लीला की |

कैसे टूटा बलि का अहंकार ?

राजा बलि को यह अभिमान था कि उसके बराबर समर्थ इस संसार में कोई नहीं है। भगवान ने राजा बलि का अभिमान चूर करने के लिए वामन का रूप धारण किया और भिम्क्षा मागने राजा बलि के पास पहुंच गये। अभिमान से चूर राजा ने वामन को उसकी इच्छानुसार दक्षिणा देने का वचन दिया। वामन रूपी भगवान ने राजा से दान में तीन पग भूमि मांगी।


राजा वामन का छोटा स्वरूप देख हंसा और तीन पग धरती नापने को कहा। इसके बाद भगवान ने विराट रूप धारण कर एक पग में धरती आकाश दूसरे पग में पाताल नाप लिया और राजा से अपना तीसरा पग रखने के लिए स्थान मांगा। प्रभु का विराट रूप देख राजा का घमंड टूट गया और वह दोनों हाथ जोड़कर प्रभु के आगे नतमस्तक होकर बैठ गया और तीसरा पग अपने सर पर रखने की प्रार्थना की। 





About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.