Hinduism

अमरनाथ सिर्फ एक गुफा रह जाती अगर शिव पार्वती को नहीं सुनाते ये कहानी | Story behind Holy Amarnath Cave



हिन्दुओं के सबसे बड़े तीर्थ स्थल के रूप में जाने जानी वाली अमरनाथ गुफा अपने आप में भगवान शिव की एक ऐसी धरोहर है जो उनके भक्तों को अपने भगवान के पास होने का एहसास दिलाती रहती है | अमरनाथ यात्रा ना सिर्फ हिन्दू धर्म की अपितु अन्य धर्मों की तुलना में भी सर्वश्रेष्ठ और महँ यात्रा है | तो आइये आज हम आपको वो कथा सुनाये जिसकी वजह से ही अमरनाथ धाम इतना प्रसिद्द हुआ |

अमरनाथ धाम कथा :


इसी गुफा में माता पार्वती को भगवान शिव ने अमरकथा सुनाई थी, जिसे सुनकर शुक-शिशु शुकदेव ऋषि के रूप में अमर हो गये थे। गुफा में आज भी श्रद्धालुओं को कबूतरों का एक जोड़ा दिखाई दे जाता है, जिन्हें श्रद्धालु अमर पक्षी बताते हैं। वे भी अमरकथा सुनकर अमर हुए हैं। ऐसी मान्यता भी है कि जिन श्रद्धालुओं को कबूतरों को जोड़ा दिखाई देता है, उन्हें शिव पार्वती अपने प्रत्यक्ष दर्शनों से निहाल करके उस प्राणी को मुक्ति प्रदान करते हैं। यह भी माना जाता है कि भगवान शिव ने अद्र्धागिनी पार्वती को इस गुफा में एक ऐसी कथा सुनाई थी, जिसमें अमरनाथ की यात्रा और उसके मार्ग में आने वाले अनेक स्थलों का वर्णन था। यह कथा कालांतर में अमरकथा नाम से विख्यात हुई।

कुछ विद्वानों का मत है कि भगवान शंकर जब पार्वती को अमर कथा सुनाने ले जा रहे थे, तो उन्होंने छोटे-छोटे अनंत नागों को अनंतनाग में छोड़ा, माथे के चंदन को चंदनबाड़ी में उतारा, अन्य पिस्सुओं को पिस्सू टॉप पर और गले के शेषनाग को शेषनाग नामक स्थल पर छोड़ा था। ये तमाम स्थल अब भी अमरनाथ यात्रा में आते हैं। अमरनाथ गुफा का सबसे पहले पता सोलहवीं शताब्दी के पूर्वाध में एक मुसलमान गड़ेरिये को चला था। आज भी चौथाई चढ़ावा उस मुसलमान गड़ेरिये के वंशजों को मिलता है। आश्चर्य की बात यह है कि अमरनाथ गुफा एक नहीं है। अमरावती नदी के पथ पर आगे बढ़ते समय और भी कई छोटी-बड़ी गुफाएं दिखती हैं। वे सभी बर्फ से ढकी हैं।



About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.