Temples

तो बात करते हैं आज उस मंदिर की जो सिर्फ बाहर से ही नहीं अन्दर से भी खरा सोना है | Talking about Golden Temple of India



स्वर्ण मंदिर सिखों का पवित्र स्थान है। स्वर्ण मंदिर को हरमंदिर साहिब के नाम से भी जाना जाता है । इस स्थान पर पुरे देश भर से लाखो लोग इस गुरद्वारे के दर्शन करने के लिए आते है । इस मंदिर में सिर्फ सिख धर्म के लोग ही नहीं बल्कि सारे धर्म के लोग स्वर्ण मंदिर में आते है । यह सुंदर गुरुद्वारा पंजाब के अमृतसर में स्थापित है । इस मंदिर में सोने की परत चढ़ी हुई हुई इसलिये ही इस मंदिर को स्वर्ण मंदिर के नाम से जानते है। 

स्वर्ण मंदिर का इतिहास :

स्वर्ण मंदिर सिख धर्म का धार्मिक गुरद्वारा है । यहाँ पर सारे धर्म के लोग दूर दूर से दर्शन करने के लिए आते है । स्वर्ण मंदिर की स्थापना सन १५७४ में गुरु रामदासजी जो सिख गुरु के चौथे गुरु है द्वारा हुई थी । हरमंदिर साहिब को सिखों का देवस्थान बोला जाता है । 



ऐसा बताया जाता है यह एक ऐसे जगह है जहाँ पर पुरुष और महिलायो दोनों समान रूप से भगवान की पूजा कर सके । स्वर्ण मंदिर अथवा हरमंदिर साहिब में चार मुख्य द्वार बने हुए है जो दूसरे धर्म के प्रति सोच को दरशाते है । उन चार दरवाजो का मतलब यही ही है कि कोई भी , किसी भी धर्म का इंसान स्वर्ण मंदिर में जा सकता है । 

स्वर्ण मंदिर की रोचक बाते :

जानिए स्वर्ण मंदिर के बारे में धार्मिक बाते जिन्हें जानना आपके लिए जरूरी है :

  • इस मंदिर में सभी धर्म के लोग बिना किसी भेदभाव से आते है और पूरे मन से भगवान की पूजा करते है ।
  • इस मंदिर का निर्माण अमृत सरोवर के बिच में किया गया है । ऐसा बताया जाता है जो भी अमृत सरोवर का जल ग्रहण कर ले वो सभी पापो से मुक्त हो जाता है । 
  • इस मंदिर की मुख्य रोचक बात यह है कि इस मंदिर के चारो दिशाओ से प्रेवेश द्वार बने हुए है जो की लोगो की एकता को दर्शाता है । 
  • इस मंदिर में दूर दूर से लाखो लोग दर्शन करने के लिए आते है और यहाँ का लंगर प्रसाद ग्रहण करते है । 



About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.