facts

शिवलिंग पर इन चीजों को चढ़ाने से होती है हर मनोकामना पूरी | What to do offer on Shivling? Know here



*यह आर्टिकल राखी सोनी द्वारा लिखा गया है। 


भगवान शिव सिर्फ नाम के ही भोलेनाथ नहीं है, बल्कि वे ऐसे देवता है जो अपने भक्तों की थोड़ी सी भक्ति से ही प्रसन्न हो उठते है। शिव की आराधना करने से हर भक्त अपनी मनचाही वस्तु को आसानी से  प्राप्त कर सकता है, इसलिए व्यक्ति को प्रतिदिन शिवलिंग की पूजा-अर्चना करनी चाहिए। महादेव वैसे तो अपने भक्तों की भक्ति  से जल्दी ही प्रसन्न हो जाते हैं, लेकिन शिवलिंग की पूजा-अर्चना करते समय कुछ खास बातों का ध्यान रखना भी जरूरी होता है। कुछ खास चीजों को अर्पण करने से जहां महादेव की कृपा व्यक्ति पर हमेशा बनी रहती है। जीवन में सुख-समृद्धि और धन की प्राप्ति होती है। वहीं कुछ ऐसी चीजें भी हैं, जिन्हें अगर प्रतिदिन शिवलिंग पर अर्पण किया जाए, तो भोलेनाथ गुस्सा भी हो सकते हैं।  

शंख से कभी ना चढ़ाये जल :


वैसे तो हमारे ग्रंथों में शंख को रखना अच्छा माना जाता है, लेकिन कभी भी शंख में पानी भरकर शिवजी को जल अर्पित नहीं करना चाहिए। इससे महादेव नाराज हो जाते हैं और उनकी कृपा नहीं होती है।  पीतल, कांसे और अष्टधातु से बने लोटे से पानी चढ़ाना शुभ माना जाता है जबकि लोहे, स्टील और प्लास्टिक के बर्तन से जल नहीं अर्पण करना चाहिए। इसके साथ ही, तुलसी के बिना देवी-देवताओं की पूजा अधूरी मानी जाती है, लेकिन कभी भी शिवलिंग पर तुलसी नहीं चढ़ानी चाहिए। इससे पूजा पूर्ण नहीं मानी जाती है। 

कुमकुम से न करें तिलक :


शिवलिंग पर चंदन का तिलक लगाना चाहिए। कभी भी सिंदूर और कुमकुम से तिलक नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही हल्दी का प्रयोग भी शिवलिंग की पूजा में नहीं करना चाहिए। चंदन का तिलक करने से व्यक्ति का यश समाज में बढ़ता है। बिजनेस और नौकरी में तरक्की हासिल होती है। 

तिल और टूटे चावल न चढ़ाएं :


शिवजी को कभी भी तिल और टूटे चावल नहीं चढ़ाने चाहिए। शास्त्रों में लिखा गया है कि टूटे चावल से  इच्छा पूर्ति नहीं होती है। इसके साथ ही तिल भगवान विष्णु के मैल से उत्पन्न होता है। इसलिए उन्हें शिवजी को अर्पण नहीं करना चाहिए। नारियल मां लक्ष्मी का प्रतीक है, इसलिए उसे शिवलिंग पर नहीं चढ़ाना चाहिए।

इन चीजों को चढ़ाने से मिलेगा मनचाहा वर :

 शिवपुराण में बताया गया है कि प्रतिदिन शिवलिंग पर जल चढ़ाना चाहिए। जल चढ़ाने से व्यक्ति का गुस्सा शांत होता है और मनोबल भी बढ़ता है। जबकि कच्चा दूध चढ़ाने से व्यक्ति बीमारियों से दूर रहता है और ताउम्र निरोगी काया पाता है। 



प्रतिदिन शिवलिंग पर घी अर्पित करने से समाज में व्यक्ति की खास पहचान बनती है। यश और समृद्धि मिलती है। जबकि शक्कर चढ़ाने से जीवन में सुख ही सुख रहता है। शकर चढ़ाने से सुख और समृद्धि बढ़ती है। शिवजी को भांग अतिप्रिय है। इसलिए  भांग चढ़ाने से हमारी बुराइयों का नाश होता है।



About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.