facts

जिसने भी की कैलाश मानसरोवर यात्रा, उसके जीवन में बढ़ गयी खुशियों की मात्रा | Are you ready for Kailash Mansarovar Yatra



भगवान शंकर को अनादि है, अनंत है। उनका कोई ओर-छोर ही नहीं है।  किसी को नहीं पता की उनके जन्म का समय क्या है ? स्थान क्या है ? उनके माता पिता कौन है ? समय समय पर उनके वर्चस्व को लेकर भक्तो में वाद-विवाद भी होता रहा है।  पर एक बात है जिसपर हर किसी का मत सामान है और वो ये है की वो सर्वज्ञ हैं, अखंड हैं। तो आज हम उन्ही की अखंडता और विविध रूपों के दर्शन कराने आपके पास चले आये हैं। भगवान् शंकर के भक्तों के लिए सबसे बड़ी माने जाने वाली अगर कोई यात्रा है तो वो है कैलाश मानसरोवर की यात्रा। अगर अपने जीवन काल में आप इस यात्रा पर नहीं गए तो आप शिव के एक स्वरुप के दर्शन से वंचित रह गए। तो आइये आज हम आपको ले चलते हैं इस पवित्र यात्रा पर।  

कैसे जाएँ कैलाश मानसरोवर यात्रा पर ?

कैलाश मानसरोवर यात्रा हिन्दुओ की प्रमुख यात्रा है। कैलाश पर्वत पर शिव पार्वती जी का मंदिर है जिसपर भक्तजन बड़ी श्रद्धा के साथ जाते है। वहीँ मान सरोवर का पवित्र अमृत सामान नीर बहता है. हिन्दुओ में ऐसी मान्यता है की जिसने कैलाश मानसरोवर की यात्रा कर ली उसका जीवन तर गया। कैलाश तिब्बतन राज्य में है इसलिए वहाँ जाने के लिए तिब्बत से ख़ास अनुमति लेनी पड़ती है। 


सरकार ने लॉटरी सिस्टम शुरू किया है। जिन लोगो का निवेदन आता है यात्रा पर जाने के लिए , सरकार लॉटरी के द्वारा कैलाश की यात्रा पर जाने वाले लोगो का चयन करती है। जिसकी लाटरी निकल जाती है वो भक्त अपने को खुशनसीब मानता है और ऐसी आस्था रखता है की उसके शुभ कर्म के उदय से भगवान् ने उसे बुलाया है। भक्तगण भजन कीर्तन करते हुए यात्रा पर जाते है। कैलाश मानसरोवर यात्रा एक अद्भुत अनुभव है।  




About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.