Festivals

सावन के महीने में भूलकर भी ना करें ये काम | Never do these mistakes in Savan



सावन का महीना भगवान् शिव का सबसे अधिक प्रिय महीना होता हैं। यह महीना वर्ष के मध्य में आता हैं और सभी  लोग भगवान् शिव को खुश करने के लिए पूजा एवं व्रत करते हैं। भगवान शिव बहुत ही भोले हैं इसलिए उनको भोलेभंडारी के नाम से भी पुकारा जाता हैं। 



इस माह में विधिपूर्वक पूजा करने से एवं कुछ बातों से परेज करने से मनवांछित फल प्राप्त होता हैं। और यह भी माना जाता हैं की इस महीने में भगवान शिव ही संसार के पालनहार होते हैं इसलिए उनको खुश करना अत्यधिक लाभकारी हैं। 


सावन के महीने में न करें ऐसा काम :


सावन के महीने में शिवजी की पूजा की जाती हैं परन्तु बहुत से लोगो को यह नहीं पता होता की शिवलिंग पर कभी भी हल्दी नहीं चढ़ानी चाहिए। इसका कारण यह हैं की शिवलिंग पुरुष तत्व से सम्बंधित हैं और शिव जी का प्रतीक हैं। इसलिए हल्दी को सदैव जलधारी पर चढ़ाना चाहिए शिवलिंग पर भूलकर भी न चढ़ाएं।  

सावन के महीने में यह सब खाने से बचे :

शिव जी की कृपा पाने के लिए सावन के पूरे महीने सात्विक भोजन करना चाहिेए। सावन के इस पावन महीने में मांस,मदिरा,प्याज और लहसुन का सेवन नहीं करना चाहिए। सावन के महीने में इस प्रकार के भोजन के सेवन को पाप माना जाता है और भगवान शिव भी रुष्ठ हो जाते हैं।

हिन्दू धर्म शास्त्रों में मान्यता है कि सावन में हरी सब्जी का त्याग कर देने से विशेष पुण्य फल की प्राप्ति होती है। और सावन में साग में पित्त बढ़ाने वाले तत्व की मात्रा बढ़ जाती है। यही कारण है कि सावन में साग खाना वर्जित माना गया है साथ ही कीट-पतंगों की संख्या बढ़ जाती है जो सेहत के लिए हानिकारक होते हैं।
सावन में बैंगन को भी खाना उत्तम नहीं माना गया है। इसका धार्मिक कारण यह है कि बैंगन को शास्त्रों में अशुद्ध कहा गया है। वैज्ञानिक कारण यह है कि सावन में बैंगन में कीड़े अधिक लगते हैं। ऐसे में बैंगन का स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए सावन में बैंगन खाने के लिए मना किया जाता है।

सावन में शिवलिंग पर क्यों अधिक मात्रा में चढ़ाया जाता हैं  दूध :




सावन के महीने में सबसे ज्यादा दूध चढ़ाया जाता हैं भगवान् शिव जी की शिवलिंग पर इसके पीछे धार्मिक कारण होने के साथ साथ एक वैज्ञानिक कारन भी हैं। सावन के महीने में दूध का सेवन करने से पित्त बनता हैं जो मनुष्य की सेहत के लिए हानिकारक हैं। यही कारन हैं की शिवलिंग पर इस महीने में सबसे ज्यादा दूध चढ़ाया जाता हैं। 

सावन के महीने में याद रखने वाली बातें :

सावन के महीने में सभी प्रकार के बुरे विचारों से बचना चाहिए क्युकी बुरे विचारो के साथ शिव जी की पूजा नहीं की जा सकती। शिव जी की पूजा करने के लिए मन को सदैव शुद्ध रखे तभी आपके ऊपर भगवान् शिव की कृपा होगी।
सदैव अपने से बड़ो एवं छोटो लोगो का सम्मान करे। बड़े बुजुर्गों को कभी भी अपमानित ना करे। अपने गुरु, भाई -बहन , माता -पिता , सगे -सम्बन्धी और मित्रो का सदैव सम्मान करें कभी किसी का अपमान ना करें।

सावन में भूलकर भी ना करें गाय का अपमान :


सावन के इस पावन महीने में अगर आपके दरवाजे पर गाय या कोई सांड आ जाये तो  कभी न भगाये। गाय को अपने दरवाजे से कभी भी भूका न जाने दे उसको खाने के जरूर ही कुछ दें। गे को अपने दरवाजे से कभी भी भूखा और मारकर नहीं भगाना चाहिए। 




About deepa singhal

MangalMurti.in. Powered by Blogger.