Hinduism

बचपन में ज़रूर सुनी होगी गणेश भगवान की ये खीर वाली कहानी | Lord Ganesha short story named 'Kheer'



बचपन में जब भी दादी नानी कोई कहानी सुनाती थी तो उसके मुख्य पात्र हमेशा कोई भगवान या कोई शक्तिशाली व्यक्ति होता था जिसका चरित्र इनता ऊँचा और पवित्र होता था जिसे सुनकर हम उन किरदारों जैसा ही बनना चाहते थे। तो ऐसी ही एक कहानी लेकर आज हम आपके पास आये है जिसे आपने अपने बचपन में ज़रूर सुना होगा। तो आइये आज ये कहानी दोबारा पढ़िए और अपने बच्चो, दोस्तों, माता, पिता को ज़रूर सुनाइए ताकि इन कहानियों का सिलसिला कभी किसी उम्र के साथ अटक के ना रह जाए।

गणेश की खीर : लघु कथा 

एक बार गणेश जी एक बालक का रूप धर कर पृथ्वी लोक आते है और भक्तों की परीक्षा लेने की सोचते है। एक चुटकी चावल और एक चम्मच में दूध लेकर लोगों के पास जाते है और उनसे दूध एवं चावल की खीर बनाने के लिए कहते है। एक चुटकी चावल और थोडे से दूध की खीर बनाने की बात सुनकर लोग उन पर हंसने लगे। बहुत भटकने के बाद भी किसी ने खीर नहीं बनाई।


आखिर एक गांव में एक बुढ़िया को उन पर दया आ गई और वह बोली— ला बेटा मैं बना देती हूं खीर। ऐसा कह कर वह एक छोटी कटोरी ले आई। यह देख बालक बोला अरे मां! इस कटोरी से क्या होगा कोई बड़ा बर्तन लेकर आओ। बच्चे का मन रखने के लिए बुढिया बड़ा बर्तन ले आती है। अब बालक उसमें चावल और दूध उडैलता है। देखते ही देखते वह बर्तन भर जाता है उसके बाद भी चुटकी भर चावल और चम्मच भर दूध खत्म नहीं होता। बुढिया एक-एक कर घर के सारे बर्तन ले आती है। सब भर जाते है लेकिन, चुटकी भर चावल और चम्मच भर दूध खत्म नहीं होता।


तब बालक बुढिया से कहता है कि वह खीर बनाने के लिए सामग्री को चूल्हे पर चढ़ा दे तथा गांव में जाए और सबको खाना खाने का निमंत्रण देकर आए। जब खीर बन जाए तो उसे भी बुला लेना। बुढिया वैसा ही करती है। सारा गांव आता है और खीर खाकर चला जाता है लेकिन, उसके बाद भी खीर बच जाती है। बुढ़िया पूछती है कि वह इसका क्या करें? तब बालक ने कहा कि— इस खीर को घर के चारों कोनों में बर्तन सहित उलट कर ढक दे और सुबह तक ऐसे ही रहने दे। सुबह बुढिया बर्तन उठाकर देखती है तो हीरे जवाहरात नजर आते है। इस तरह जैसे भगवान गणेश ने बुढ़िया पर कृपा बनाई, वैसे ही वह सब भक्तों पर कृपा बनाए रखें। बोलो, गणेश जी महाराज की जय।




About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.