Hinduism

शिव तो 52 इत्रों से स्नान कर सकते हैं फिर वो भस्म से क्यों करते हैं श्रृंगार ? | Why Lord Shiva put Bhasma on his body ?



हिन्दू धर्म में त्रिदेव का बहुत ही महत्व है। हज़ारों की संख्या में भक्त अपन अपने इष्ट देवों को पूजने जाते हैं। ऐसे में अगर बात करें भगवान शिव के भक्तों की तो, शिव के भक्तजन इस संसार की मोह-माया से विरक्त होते हैं। ध्यान देने की बात ये हैं कि वे शिव के द्वारा धारण किए जाने वाले हर प्रतीक के प्रति भक्ति का भाव रखते हैं। दूसरी ओर शिव के द्वारा प्रयोग किए जाने वाले हर प्रतीक के पीछे एक रहस्यमय कहानी छुपी हुई है। आपने भी ध्यान दिया होगा कि शिव की पूजा में राख या भस्म का प्रयोग भी किया जाता है। साथ ही शिवभक्त भी राख को अपने माथे पर तिलक के रूप में लगाते हैं। लेकिन क्या आप इसके पीछे के महत्व को जानते हैं ?

क्या कारण है शिव का भस्म श्रृंगार के पीछे ?

वास्तव में ‘शिवपुराण’ में इस सम्बध में एक कथा मिलती है, जिसके अनुसार जब सती ने स्वंय को अग्नि में समर्पित कर दिया था, तो उनकी मृत्यु का संदेश पाकर  भगवान शिव क्रोध और शोक में अपना मानसिक संतुलन खो बैठे। वे अपनी पत्नी के मृत शव को लेकर इधर-उधर घूमने लगे, कभी आकाश में, तो कभी धरती पर। जब श्रीहरि ने शिवजी के इस दुख एवं उत्तेजित व्यवहार को देखा तो उन्होंने शीघ्र से शीघ्र कोई हल निकालने की कोशिश की।


अंतत: उन्होंने भगवान शिव की पत्नी के मृत शरीर का स्पर्श कर इस शरीर को भस्म में बदल दिया। हाथों में केवल पत्नी की भस्म को देखकर शिवजी और भी चितिंत हो गए, उन्हें लगा वे अपनी पत्नी को हमेशा के लिए खो चुके हैं।

पत्नी वियोग में क्या किया भगवान शिव ने ?


अपनी पत्नी से अलग होने के दुख को शिवजी सहन नहीं पर पा रहे थे,  लेकिन उनके हाथ में उस समय भस्म के अलावा और कुछ नहीं था। इसलिए उन्होंने उस भस्म को अपनी पत्नी की अंतिम निशानी मानते हुए अपने तन पर लगा लिया, ताकि सती भस्म के कणों के जरिए हमेशा उनके साथ ही रहें। दूसरी ओर एक अन्य पौराणिक कहानी के अनुसार भगवान शिव ने साधुओं को संसार और जीवन का वास्तविक अर्थ बताया था जिसके अनुसार राख या भस्म ही इस संसार का अंतिम सत्य है। सभी तरह की मोह-माया और शारीरिक आर्कषण से ऊपर उठकर ही मोक्ष को पाया जा सकता है।




About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.