India

भगवान गणेश को भी है त्रिनेत्र, अगर विश्वास नहीं तो ये मंदिर घूम आओ | Lord Ganesha Trinetra temple in Ranthambhore



हरी—भरी वादियों और बख्तरबंद दुर्ग में से होकर यदि आपको भारत के प्रथम मान्यता प्राप्त गणेशजी के दर्शन करने को मिले, तो क्या आप खुद को रोक पाएंगे! आप यदि राजस्थान की यात्रा पर हैं, तो आपको सवाई माधोपुर में रणथम्भौर स्थित त्रिनेत्र गणेश मंदिर अवश्य जाना चाहिए। यह मंदिर वर्ल्ड हेरिटेज लिस्ट में शामिल रणथंभौर दुर्ग के भीतर बना हुआ है, जो अरावली और विन्ध्याचल पहाड़ियों के बीच स्थित है।

गणेश जी का तीसरा नेत्र है किस बात का प्रतीक ?


स्थानीय लोगों के अनुसार मंदिर का निर्माण महाराजा हम्मीरदेव चौहान ने करवाया था। कहा जाता है कि मंदिर में भगवान गणेश की प्रतिमा स्वयंभू है। यहा गणेश जी के तीन नेत्र हैं, जिसमें तीसरा नेत्र ज्ञान का प्रतीक माना जाता है। यह ऐसा इकलौता मंदिर भी जाना जाता है, जहां पूरा गणेश परिवार एक साथ मौजूद है। यह मंदिर लगभग 1579 फीट ऊँचाई पर स्थित है। यहां यदि आप परिक्रमा करते हैं, तो वह रास्ता 7 किलोमीटर का है और रास्ते में आप मनोहारी हरियाली और नैसर्गिक सौन्दर्य से प्रभावित हुए बिना नहीं रहेंगे।

अनुपम होता है गणेश जी का श्रृंगार :


इस मंदिर में गणेश जी का शृंगार बहुत अनोखे तरीके से किया जाता है। सामान्य दिनों में चाँदी के वर्क होता है, वहीं गणेश चतुर्थी पर यह शृंगार सोने के वर्क से होता है। गणेश जी की पोशाक भी विशेष रूप से तैयार करवाई जाती है। आप यहाँ बारिश के मौसम में आ सकते हैं। चौथ माता के मंदिरऔर दुर्ग के अलावा यह स्थान रणथंम्भौर राष्ट्रीय उद्यान के लिए भी मशहूर है। यहां आपको कई अन्य वन्य जीवों के अलावा टाइगर भी मिलेंगे। यहां का प्राकृतिक नजारा आपका मन मोह लेगा।

मन्दिर में दर्शन का समय:


भाद्रपद शुक्ल की चतुर्थी को यहां विशाल मेले का आयोजन होता है। यहां प्रति​दिन पांच आरतियां होती हैं। पहली आरती सुबह साढ़े सात बजे होती है और शयन की आरती रात 8 बजे की जाती है।



About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.