Beliefs

किस दिन के हिसाब से कौन सा तिलक लगाये क्या पता है आपको ? | Benefits of putting Tilak on head



*यह आर्टिकल राखी सोनी द्वारा लिखा गया है। 

कोई भी शुभ कार्य हो या फिर धार्मिक कार्य और पूजा अर्चना, तिलक  लगाने की परम्परा हिन्दू समाज में कई सालों से चली रही है। भगवान की पूजा अर्चना करते समय भी सबसे पहले उन्हें तिलक ही लगाया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि बिना तिलक लगाए, पूजा अधूरी होती है। भगवान की पूजा करते समय चार तरह के तिलक लगाए जाते हैं। कुमकुम, केसर, चंदन और भस्म। सबसे ज्यादा उपयोग तिलक के लिए कुमकुम और केसर का होता है।


दिनों के हिसाब से लगाए भगवान को तिलक :

जैसे दिन के हिसाब से ईश्वर की आराधना और उन्हें भोग लगाया जाता है। उसी प्रकार दिन के हिसाब से ही अगर भगवान को तिलक लगाए जाए तो वे शीघ्र मनोकामना पूरी करते हैं।

  • सोमवार- सोमवार के दिन भगवान भोले की पूजा अर्चना की जाती है। भोले बाबा को भस्म काफी प्रिय है। इसलिए इस दिन उन्हें भस्म का तिलम लगाना चाहिए। इसके अलावा इस दिन का स्वामी चंद्रमा होता है। इसलिए इस दिन व्यक्ति को सफेद तिलक लगाना चाहिए। इससे मन को शांति मिलती है।   
  • मंगलवार- ये दिन हनुमान जी का होता है। हनुमान जी को लाल रंग अति प्रिय है। इस दिन का स्वामी भी मंगल होता है, जिन्हें लाल रंग प्रिय है। इसलिए इस दिन लाल चंदन का तिलक लगाना चाहिए। इससे हर कार्य में सफलता मिलती है। 
  • बुधवार-  ये दिन गणेशजी का होता है। इस दिन सूखे सिंदूर का तिलक लगना चाहिए। इससे बुद्धि का विकास होता है।   
  • गुरुवार : गुरुवार के दिन भक्तों को हल्दी का तिलक लगाना चाहिए। इस वार का गुरु बृहस्पति होता है। इसके साथ ही इस दिन केसर का तिलक भी लगा सकते हैं। इसके आर्थिक स्थिति मजबूत होती है। 
  • शुक्रवार : शुक्रवार का दिन मां वैभवलक्ष्मी का होता है। इसलिए इसदिन लाल चंदन का तिलक लगाना चाहिए। इससे धन की कृपा बनी रहती है। घर में हमेशा बरकत बनी रहती है।  
  • शनिवार- शनिवार को भस्म या फिर लाल चंदन का तिलक लगाना चाहिए। इससे भैरव बाबा और शनि देवता की कृपा बनी रहती है। 
  • रविवार- ये दिन सूर्य भगवान का होता है। इस दिन लाल चंदन का तिलक लगाना चाहिए। इससे समाज में यश और सम्मान बढ़ता है। 

इसलिए लगाया जाता है तिलक :


मस्तिष्क पर तिलक लगाने वैज्ञानिक कारण भी है। तिलक लगाने से  न सिर्फ मानसिक शांति मिलती है, बल्कि दिमाग में ठंडक भी बनी रहती है। इसके साथ ही कई बीमारियों से भी लडऩे की क्षमता विकसित होती है। जिन लोगों को माइग्रेन की समस्या है, उन्हें नियमित रूप से तिलक लगाना चाहिए। इसके अलावा हल्दी का तिलक लगाना काफी उपयोगी होता है। हल्दी का तिलक लगाने से प्रतिरोधक क्षमता तेज होती है। हल्दी का तिलक हमारे शरीर के लिए एक सुरक्षा कवच की तरह काम करता है।



About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.