Stories

जिस नारी को कोई समझ नहीं पाता, पता है उसकी रचना भगवान् ने कैसे की ? | A short story on how god created woman



लघु कथा :

जब भगवान स्त्री की रचना कर रहे थे तब उन्हें काफी समय लग गया। छठवाँ दिन था और स्त्री की रचना अभी अधूरी थी। 

देवदूत- भगवान, आप इसमें इतना समय क्यों ले रहे हो?
भगवान- क्या तुमने इसके सारे गुणधर्म देखे हैं, जो इसकी रचना के लिए जरूरी हैं ? यह हर प्रकार की परिस्थितियों को संभाल सकती है। यह एकसाथ अपने सभी बच्चों को संभाल सकती है एवं खुश रख सकती है। यह अपने प्यार से घुटनों की खरोंच से लेकर टूटे दिल के घाव भी भर सकती है। यह सब सिर्फ अपने दो हाथों से कर सकती है। इसमें सबसे बड़ा गुणधर्म यह है कि बीमार होने पर अपना ख्याल खुद रख सकती है एवं 18 घंटे काम भी कर सकती है।

देवदूत- भगवान क्या यह सब दो हाथों से कर पाना संभव है?
भगवान- यह मेरी अद्भुत रचना है।
देवदूत ने नजदीक जाकर स्त्री को हाथ लगाया और कहा- भगवान यह तो बहुत नाजुक है।
भगवान- हां, यह बाहर से बहुत ही नाजुक है, मगर इसे अंदर से बहुत मजबूत बनाया है। इसमें हर परिस्थितियों का संभालने की ताकत है। यह कोमल है पर कमजोर नहीं है। 

 अर्धनारीश्वर रूप
अर्धनारीश्वर रूप 

देवदूत- क्या यह सोच भी सकती है?
भगवान- यह सोच भी सकती है और मजबूत होकर मुकाबला भी कर सकती है।
देवदूत ने नजदीक जाकर स्त्री के गालों को हाथ लगाया और बोला- भगवान ये तो गीले हैं। लगता है इसमें से कुछ बह रहा है।
भगवान- यह इसके आँसू हैं।
देवदूत- आंसू किसलिए?
भगवान- यह भी इसकी ताकत है। आंसू इसको फरियाद करने, प्यार जताने एवं अपना अकेलापन दूर करने का तरीका है।
देवदूत- भगवान आपकी रचना अद्भुत है। आपने सब कुछ सोचकर बनाया है। आप महान हैं।
भगवान- यह स्त्रीरूपी रचना अद्भुत है। यही हर पुरुष की ताकत है, जो उसे प्रोत्साहित करती है। वे सभी को खुश देखकर खुश रहती हैं, हर परिस्थिति में हंसती रहती हैं। उसे जो चाहिए, वह लड़कर भी ले सकती है। उसके प्यार में कोई शर्त नहीं है। उसका दिल टूट जाता है, जब अपने ही उसे धोखा दे देते हैं, मगर हर परिस्थितियों से समझौता करना भी जानती है।
देवदूत- भगवान आपकी रचना संपूर्ण है।
भगवान- ना, अभी इसमें एक त्रुटि है। 'यह अपनी महत्ता भूल जाती है।' 



About Pawan Upadhyaya

MangalMurti.in. Powered by Blogger.