Recipes

सावन के पावन महीने में घेवर की मिठास मुँह से जाती नहीं। recipe of ghevar



www.mangalmurti.in

घेवर एक पारम्पिक मिठाई होती हैं। घेवर राजस्थान की प्रमुख मिठाइयों में से एक मिठाई हैं। सावन का महीना अपने साथ बहुत सारी खुशियाँ लेकर आता हैं इस महीने में बहुत ही ज्यादा त्योहारों का आना जाना रहता हैं। घेवर सबसे ज्यादा सावन के महीने में ही बनाया और खाया जाता हैं। घेवर अपनी मिठास के कारण बड़े और बच्चों को बहुत ज्यादा प्रिय होता हैं। घेवर को घर पर कैसे बनाये आज हम यह सीखते हैं।

घेवर को बनाने के लिए आवश्यक सामग्री -

मैदा     - 250 ग्राम 
दूध       - 50 ग्राम 
घी         - 50 ग्राम 
पानी      - 800 ग्राम 
बर्फ       - कुछ टुकड़े 
घी / तेल - तलने के लिए 

चाशनी बनाने के लिए -

शक्कर - 400 ग्राम 
पानी    - 200 ग्राम 

राजस्थानी घेवर बनाने की विधि -

राजस्थानी घेवर बनाने के लिए सबसे पहले एक बर्तन में घी ले फिर उसमे कुछ टुकड़े बर्फ के डाल लें और उसको हाथ से फैंट लें। तब तक फैंटे जब तक की घी क्रीम जैसा न लगने लगे। जब घी थोड़ा गाढ़ा हो जाये और क्रीम के जैसे दिखने लगे तो बर्फ के टुकड़े निकल लें। बर्फ को निकालने के बाद घी को फिर से फैंट लें। अब क्रीम जैसा लगने वाले घी में आधी मैदा डालें और अच्छे से फैंट लें। 
www.mangalmurti.in

अब बची हुई मैदा को डाल लें और दूध, पानी को भी डालकर अच्छे से फैंट लें। ध्यान रहे की जब मैदा को फैंटे तो एक भी गाँठ न पड़े। घोल एकसार होना चाहिए उसमे जरा सी भी गाँठ ना हो। घोल बहुत पतला रखें, इतना पतला रखें की चम्मच से गिराने पर एक धार के जैसे गिरे। 
अब एक पतला परन्तु भरी ताली वाला भिगोना लें और आधा भिगोने को घी से भरकर गर्म कर लें। जब घी गर्म हो जाये तो एक बड़े चम्मच में घोल को लेकर भिगोने में गोलाई से गिराए। घोल को भिगोने में इतना गिराए की एक गोल परत जैसा बन जायें। 
मैदा के मिश्रण से बनी यह परत घी के ऊपर तैरने लगेगी। अगर मैदा का मिश्रण बीच में इकट्ठा होता हैं तो किसी नुकीली चीज़ से किनारे में लेकर उसके बीच में एक बड़ा सा छेद कर दें। 
www.mangalmurti.in

अब लगभग 2 मिनट के बाद भिगोने में फिर से गोलाई से घोल डालें आप अपनी इच्छा के अनुसार 2 या 3 परत बना लें। परत की मोटाई आप अनुसार रख लें। जब घेवर का साइज आपकी अनुसार बन जाये तो उसके ऊपर मैदा का घोल न डालें और मैदा की परत को सुनहरा होने तक सेंक लें। जब आपका घेवर सिक जाये तो उसकी किसी सीक या नुकीली चीज़ से निकाल लें और किसी बर्तन पर लटका दें जिससे घेवर में उपस्थित अतिरिक्त घी निकल जाये। इस प्रकार आप अपने इच्छा के अनुसार कितने भी घेवर बना सकते हैं। 
www.mangalmurti.in

चलो अब घेवर तो बन गया लेकिन उसमे मिठास डालना भी तो जरूरी हैं। मिठास डालने के लिए हमें आवश्यकता हैं चीनी से बानी चाशनी की। अब चीनी को पानी में डालकर किसी बर्तन में गर्म कर लें और 2 तार की चाशनी ले लें। अब सीखे हुए घेवर को किसी चौडे बर्तन में रख दे और उसके ऊपर से चाशनी को डालें। लगभग 15 मिनट तक चाशनी में डूबाकर रखें। फिर घेवर को निकाल कर किसी बर्तन पर लटका दें जिससे फालतू चाशनी निकल जाये। आप अपने घेवर पर रबड़ी की परत भी लगा सकती हैं। 
www.mangalmurti.in

आपके द्वारा बनाया गया गरमा गर्म घेवर तैयार हैं। थाली में परोसकर सबको खिलये और खुद भी खाये। 



About deepa singhal

MangalMurti.in. Powered by Blogger.